ग़ज़ल 

उठी  है  आवाज़ तो  रहेगी देर तलक 
रात रोशन  हो  जाएगी  सवेर  तलक 

जब  जल  जंगल ज़मीन चिल्ला उठेगी 
मरकज़ भी हिल जाएगी कुछ देर तलक 

आवाज़ हिमालय की निकल आएगी  
बस  हमें इंतज़ार  है  कुछ  देर तलक 

हक़ की  आवाज़ कब खामोश बैठी है 
उठेगी तो  झुक  जाएंगे दिलेर तलक

जो लफ्ज़ हैं धुँआ धुँआ सी चोटियों पे 
बसी है ज़िन्दगी बादलों के घेर तलक  

                                                                 असरारुल हक़ जीलानी 


ये ग़ज़ल मैंने तब लिखी थी जब मैं उत्तराखण्ड आपदा में  उत्तरकाशी गया था वहाँ का नीड असेसमेंट करने। 


Uthi hai aawaaz to rahegi der talak
Raat roshan ho  jayegi sawer talak

Jab jal  jangal  zameen chilla uthegi
Markaz bhi hil jayegi kuch der talak

Awaaz  Himalaya  ki  niakal ayegi 
Bas hamen intezar hai kuch der talak 

Haq ki awaaz kab khamosh baithi hai
Uthegi  to jhuk  jayenge  diler  talak

Jo lafz hain dhuan dhuan si chotiyon pe
Basi hai  zaindagi badalo kr gher talak




No comments:

Post a Comment

Painting is Still Version of Theories and Literature

Recently I received an opportunity to witness paintings of Almas, a fine art studen...