ज़िन्दगी बस रंग ही तो है


ज़िन्दगी के दरख़्त पे 
पत्ते जो लगे हैं 
बस रंग ही तो है 
कुछ लाल, कुछ हरे 
कुछ स्याह तो कुछ सफ़ेद 
और फिर उम्र के एक मोड़ पे 
गुलाबी रंग भी शर्माता, मुस्कुराता
डोली सजा कर आ जाता है 
उगाने किसी टहनी पे एक फूल 
जो बहलाता देती है 
और कहती है 
ज़िन्दगी बस रंग ही तो है 
पीते पीते नीले रंग का साँस 
किसी पतझर के मौसम में 
लपेट कर सफ़ेद चादर 
हिलता डुलता हवा में तैरता गिर जाऊंगा 
मिल जाऊंगा पीले रंग में 
और कहूँगा
ज़िन्दगी बस रंग ही तो है   

Transcription

Zindaghi ke darakht pe 
Patte jo hain
Bas rang hi to hai
kuch laal kuch hare 
kuch syah to kuch safed
Aur phir umar ke kisi mod pe 
Gulabi rang bhi sharmata muskurata
Doli saja kar aa jata hai
Oogaane kisi tahni pe ek phool 
Jo bahla deti hai 
Aur kahti hai
Zindagi bas rang hi to hai
Peete peete nile rang ka sans
Kisi patjhar ke mausam mai
Lapet kar safed chadar 
Hilta dulta hawa mai tairata gir jaunga
Mil jaunga peele rang mai
Aur kahunga
Zindagi bas rang hi to hai

Thank you all for giving feedback. I am transcribing the poems in English script fro the ease of those who can not read Devnagiri script.

No comments:

Post a Comment

Polythenized Death of Nature

The word ‘nature’ and its meaning can give us better understanding of some sociological concepts like freedom, empowerment, unbiased, nonj...