Painting is Still Version of Theories and Literature



Recently I received an opportunity to witness paintings of Almas, a fine art student from Jamia passionate toward diverse genre of art. When I beheld her paintings, I noticed that she has a range of themes and ideas to ooze it out on a white sheet. The creative conversion of white sheet into colourful thoughts has impressed me with some thoughts, catalysed mental reaction to reflect and reminded me few theories and readings although her work needs some amelioration as every art work has scope to improve. Among her paintings, four interconnected and creative piece was the one took me here to write few words.


These four paintings reveal the nature of complexity of ‘nature’ and interconnection with human beings. Is there any distinction between human/society and nature? If yes then the boundary has been blurred and nature has internalized human or vice versa but many scholars and philosophers has distinguished these two as a separate identity. ‘Nature has not been discovered but constructed or created’ as Dona J. Haraway (1991) in her book ‘Simians, Cyborg and Women’ has discussed extensively and this is how nature has been understood as separate body on this earthy planet. Human beings have externalized nature however the fact is it’s an internal part of human and society. Poets, story writers and painters have also interpreted nature in their own way. Social positioning or location of the community or individual may provide different lenses to interpret of nature as a tribal community might have different connotation and meaning of nature than urban community. A story writer from upper caste or majority community might interpret nature in different way from a Dalit or underprivileged community. In the same way painter, poet and story writer may also visualize nature in different way. However painters have still version of those thoughts, ideas, theories, facts or stories but the meanings and interpretation has wide range of scope to understand its significance.
These painting of Almas that I chose to discuss are somehow related to above mentioned theories of different scholars. Painting titled ‘Green Dream’ and ‘I am Happy With Nature’ are depicting the process of internalization. In one painting, leaves have been grown on a human body whereas in second, a female face is blooming on a flower, signifying the bonding and attachment between nature and human. Another two paintings titled ‘Nature Brack Down’ and ‘Greenless Present Seres 2’ has creative brush upon the idea that nature can see or nature has internalize human or the hidden part of humanness in nature as well as water is the primary product of plant as S. N Ghosh (1985) suggests. These painting can also be connected to the famous literary work.  

I think painting is the still version of those lines or paragraphs of a story or novel or poetry or theories which perfectly signifies or clue to draw the whole meaning of the poetry, novel, story or theories.






Polythenized Death of Nature

The word ‘nature’ and its meaning can give us better understanding of some sociological concepts like freedom, empowerment, unbiased, nonjudgmental, equality, prosperity and coherence because intrinsically it carries fundamentals of these concepts.  The social process such as cooperation, competition, assimilation, accommodation and conflict can also be seen in the natural world where diverse flora and fauna shares different elements of earth. A study was done in cancer care hospital in Australia to understand the subjective experience of patients with nature, where nature was found as empowering, connecting, supportive and normalizing. However the un-natural or manmade interventions have always created conflicts, devastation and destruction in the natural world and it has not only affected single unit of nature but menace in the whole system. It has also affected our social, economical, political and psychological aspect of our life. Take an example of Assam communal violence of 2012 and 2014, where hundreds of Bangla speaking Muslims has been killed due to natural resource holding (land) which further influenced our political, economical and social psychology. Means the nature is inherently connected to our every aspect of life but we are unable to visualize.


Photograph: 1- Bones of Dead Animal 

Photograph:2- Dead Body of Animal with Entangled Polythene 
Today on 25th of May, 2018, we (Asrarul Haque Jeelani and Shams Wadood) were roaming in JNU campus in the morning, suddenly an idea strike in our mind to visit JNU Lake. We tried to reach out lake through dense forest but failed and then took help of Google map (JNU Lake coordinate: 28.540977, 77.162277). It was mesmerising visuals near the lake and deep forest has made us free to think, to have conversations on different topic. But a few meter ahead of lake we found a dead body of an animal, probably Neel Gaay. The scattered bones, dungs and other remnants parts of body were not inquisitive as a big entangled patch of hundreds of polythene bags (Photograph:1 and 2) looks like stomach. A close observation and discussion between us has made to understand that the bundle of polythene bag would have stuck in the stomach. The Neel Gaay might have ate these polythene and died (the reason can be this or something else) due to starvation. According to Marine Conservation Society, animals that eat plastic bags feels " a false sensation of fullness or satiation" as the litter can stay in the stomach and lead to infection, starvation and death. The Neel Gaay in the campus can be seen in JNU campus now a day, however before 20-25 years ago it was rare and reason could be dense forest where they had ample natural space, one of my friends has shared this information. The forest area has been reduced and materialistic world has been reached to the natural world which made them to eat polythene and rappers. There are some evidences of immune and fertility loss in animals due to consumption of polythene, This may affect the population of the Neel Gaay in the campus and in the general marine creature those are on high risk.

Photograph:3- JNU Lake

According to a report around 1400 marine species are affected by the plastic. Even birds are on high risk as a research done in between 1982 to 2001 in Netherlands, has revealed that 96% of birds had plastic fragments in their stomach. The question is who is responsible for this kind of polythenized death of nature? The accused is Human and only human. We all know how many polythene we used in daily activities even we have awareness of these hazardous impact.   

Photograph: 5 Observation of a plant
    
Photograph: 4- JNU Lake
Photograph: 5- Near JNU Lake

References

1. Balaschke, S., O’Callaghan, C. C., Schofield, P. & Salander, P. (2016), ‘Cancer Pateints’s Experiences with Nature: Normalizing Dichotomous Realities’, Social Sciences &Medicine  
3. https://www.plasticsoupfoundation.org/en/files/animal-cruelty/ 

पिन्हाँ

  

                                                              ‘उसके शहर में भी ऐसे वाक़यात होते रहते हैं’ | ज़ाहिद ऐसा सोचते हुए अख़बार की सुर्खी से उतर कर ख़बर की समंदर में गोताज़न उस वाक़िये की तह में चलने फिरने लगा | कुछ दूर चलने के बाद उसे अहसास हुआ कि रास्ता कुछ जाना पहचाना सा है शायद आगे चल कर कोई नया मोड़ मिले या किसी ठिकाने पे रुक कर मंज़र-ए-ख़य्याम या आशियाना-ए-आलिम-ओ-शैख़ दिख जाए  | मगर नतीजा सिर्फ़ ये मिला कि क़त्ल वाजीब क़रार दे दिया गया ज़मीनी ख़ुदाओं की ज़ुबान से, उसका जिस ने अपना जींस (लिंग) बदल लिया था |
अख़बार के सफ्हे को पलटते ही ख़्याल भी अपना रंग बदला और सोचने लगा कि अभी जिस वक़्त वो अख़बार सूरज की रौशनी में पढ़ रहा है क्या ये मुमकिन है कि कोई इस सरज़मीन पर चाँद की रौशनी में बैठा यही हादसा सर अंजाम दे रहा हो जो अभी अभी उस ने पढ़ा ? शायद हाँ लेकिन अगर जवाब नहीं में भी हो तो इतना तो मुमकिन है कि जब वो इस वक़्त सूरज की रौशनी में है कहीं कोई चाँद की रौशनी में होगा | इसका मतलब है कि एक ही वक़्त में दो रंग हो सकते हैं, रात और दिन एक वक्त में होना मुमकिन है | जिस तरह एक अख़बार में मौत और ज़िन्दगी दोनों की ख़बरें शाया होती है | तो क्या जींस, मर्द, औरत या मर्द और औरत के अलावा जींस सिर्फ़ एक जिस्म में हो सकते हैं ?
ज़ाहिद इस सोच में महू था लेकिन एक सलाम ने ज़हन पे दस्तक देकर सोच का दरवाज़ा खोला और आँखों को एक चेहरे का तआक़ुब करने पे मजबूर कर दिया | मरयम सामने से गुज़रते हुए सलाम कह गयी थी और ज़ाहिद अपने हाथों में अख़बार लिए उसे देखता रहा कि एक बार मुड़ कर अगर देखे तो सलाम का जवाब दे दे मगर ख़्याल ये सही नहीं निकला | शायद वो जल्दी में थी इसलिए रुकना सही नहीं समझी और ये भी कि सरे राह चाय की दूकान पे एक औरत की मौजूदगी अगर वो चाह कर रुक भी जाए, मर्द किस हद तक अपनी समझ में सही ठहरा सकता है हालाँकि औरत मर्द का कभी भी बावर्ची खाने में आना बुरा नहीं मानेगी | ज़ाहिद आस पास की दुनिया से सोच के दरवाज़े बंद कर के अख़बार पे दोबारा अपनी नज़रें ज़माने के लिए वापस ज़हन के कोह में बैठा तो फिसल कर अख़बार का एक रंगीन सफ़्हा जिस पे आधे कपड़ों में औरतें चिपका दी गई थी ज़मीन पे गिर गया, तमाम हाज़रीन की आंखें गिरे हुए अख़बार पे चिपक गयी | अख़बार उठाते हुए ज़ाहिद फिर से मरयम की सिम्त देखा मगर इस बार मरयम का शौहर सोलमन आता दिखाई दिया | अक्सर शौहर बीवी से या बीवी शौहर से इस क़दर चिपके क्यों होते हैं, इस सवाल ने मन में गुदगुदी पैदा कर दिया मगर ज़ाहिद को ख़ुद से जवाब का न मिलना उस के ज़हन में एक ख़ला छोड़ गया था | सोलमन क़रीब आकर बैठ गया और चाय के लिए गुप्ता जी को आवाज़ दी | ज़ाहिद अख़बार पढ़ने में मसरूफ़ सर उठा कर गुड मोर्निंग किया और फिर अख़बार का सफ़्हा पलट कर पढ़ने लगा | सोलमन उसकी तरफ़ देखा कि शायद वो नज़र उठाए तो जवाब देकर बातों का सिलसिला आगे बढ़ाए मगर सिर्फ़ गुड मोर्निंग पे इत्तेफ़ा करना पड़ा |  
चाय की दूकान जब एक शौर में तब्दील होने लगी तो ज़ाहिद को ये बेहतर लगा कि घर जा कर बच्चों को स्कूल जाने की तैयारी कराई जाए | सदफ़ के बीमार पड़ने के बाद ये ज़िम्मेदारी ज़ाहिद बख़ूबी निभा रहा था | एक प्रोफेसर होने की वजह उस को कभी कभी ये काम नागवार गुज़रता लेकिन साथ ही एक ज़ायक़ा अहसास की आंच पे जला कर मन के कोने पे छोंक लगा जाता जिस से दिल मुअत्तर हो जाता फिर उस की नागवारियाँ जाती रहती |  ज़ाहिद का सुस्त क़दम जब देखा कि मरयम अपने बच्चों को लेकर तेज़ क़दमों से बस स्टॉप की तरफ़ आ रही तो अपनी रफ़्तार बढ़ा लिया | क़रीब से गुज़र रही मरयम ने दरयाफ्त किया “सफ़दर और अज़मत आज देर हो गये, स्कूल नहीं जाएंगे क्या ?”
“हाँ थोड़ी ताखीर से जाएंगे, आज उनके स्कूल में कोई फंक्शन हैं |”
 बच्चों के स्कूल में अगर कोई प्रोग्राम ऐन्क़ाद हो तो वालदैन को ख़ास तौर से माओं को चाय पीने या अख़बार पढ़ने की मोहलत तो ज़रूर मिल जाती है | नहीं माएं अख़बार पढ़ना बेहतर नहीं समझेगी वो आराम कर लेंगी, हाँ लेकिन कुछ माएं अखबार पढ़ लेंगी लेकिन अक्सर वालिद अख़बार और चाय पे ज़रूर अपने वक़्त को लगाएंगे | जैसे किसी बच्चे को अगर छुट्टी मिले तो वो क्रिकेट या फुटबॉल खेलेगा और बच्ची शायद गुड़ियों से खेलना पसंद करेगी लेकिन क्या इसका मुताज़ाद नहीं हो सकता कि कोई बच्चा गुड़िया से खेले या कोई बच्ची क्रिकेट या फुटबॉल | हाँ ऐसा हो सकता है लेकिन हम अपने तसव्वुर को महदूद कर उतना ही सही समझते हैं जितना हमें बताया या समझाया गया है | और अगर उस से एक हर्फ़ के बराबर भी कोई अमल उल्टा सरज़द होता है तो उसे हम सही और ग़लत की तराज़ू में तौल कर फ़ौरन फ़ैसला सुना देते हैं जो कि उस शख्स को बुरा समझने से लेकर मौत तक का फ़ैसला हो सकता है | ज़ाहिद चलते हुए ज़हन के बाग़ में इन सारे मसले पे गौर ओ फ़िक्र कर रहा था |  
“आधा किलो मटर तौल देना ?” सब्ज़ी की टोकरी में गाज़र के रंग को खरोचते हुए ज़ाहिद बोला और फिर भिन्डी को टटोलने लगा | जो सब्जी ऊपर से हरी दिखती है अन्दर से कितनी सफ़ेद होती है | ज़ाहिद कई बार ऐसे लोगों से मिला है जिन को कुछ हादसों के बाद रो कर ख़ुशी हासिल होती है | उसे याद आता है कि एक बार उसने अपनी बहन साजदा के कपड़े पहन कर खूब मस्ती की थी और इस अमल में उसे कुछ बुरा नहीं लगा बल्कि ख़ुशी महसूस हुई थी | तो फिर ऐसा क्यों कि मर्द के कपड़ों में मलबूस मर्द को सिर्फ़ मर्द समझा जाता है या औरत को सिर्फ़ औरत |
ज़ाहिद घर में जब दाख़िल हुआ तो दरवाज़ा ज़रा खुला हुआ था जिस से मालूम पड़ता है यहाँ अभी कोई आया है या कोई बाहर की तरफ़ गया है | आवाज़ देकर अपने वहम को दूर कर लेना बेहतर समझा | “अज़मत, सफ़दर कहाँ है?”
“जी वो वाशरूम में है अब्बू |”
“ये दरवाज़ा फिर किस ने खुला छोड़ दिया ?”
अन्दर दाख़िल होते ही सामने सोफ़े पे मरयम बैठी अख़बार पढ़ रही थी और उसके बराबर में एक थैला था जिस में भिन्डी की हरियाली चमक रही थी | उन में एक ऐसी भिन्डी भी था जो टूटी हुई था जिसके अन्दर की  सफ़ेद दुनिया दिख रही थी |
“मरयम आंटी आई हैं आप से मिलने |”
“आप इतनी जल्दी फ़ारिग़ हो गयी बच्चों को स्कूल बस तक छोड़ेने से |”
“जी हाँ“
शायद मरयम किसी हादसे को पढ़ने में मशगुल थी इस लिए जवाब लम्बी न हुई और न ही जवाब के बाद गुफ्तगू अपना हाथ पाँव फैलाई | मरयम के इस आदत से आज वो वाकिफ़ हुआ कि अगर वो किसी काम में मशगुल है तो पहले वो उसे पूरा करेगी तो क्या ज़ाहिद के अन्दर एक मरयम है या मरयम के अन्दर एक ज़ाहिद ? शायद दोनों एक दूसरे को एक दूसरे में ढूंढ सकते हैं | तो क्या मर्द में एक औरत मिल सकती है या उसके किरदार का कोई सुर मिल सकता है | इसका जवाब कोई फ़ल्सफ़ी ही देगा | लेकिन ज़ाहिद ये सोचता है कि हर मर्द में एक औरत और हर औरत में एक मर्द होता है | पिछली बार जब ज़ाहिद सोसाइटी की मीटिंग के सिलसिले से सोलमन के घर और लोगों से पहले पहुँच गया था तो मरयम को उसका शौहर सोलमन ने आवाज़ लगा कर चाय बनाने को कहा था | थोड़ी देर बाद वो चाय लेकर आई भी थी | 
अख़बार की सुर्ख़ियों से जब मरयम का सर उठा तो देखती है कि ज़ाहिद एक ट्रे में चाय और नाश्ते के साथ अहिस्ता चलते हुए उसकी तरफ़ बढ़ रहा है |


समीक्षा - 'रुह से रूह तक'

दो दिलों की एक मासूम कहानी 

विनीत बंसल द्वारा रचित उपन्यास 'रूह से रूह तक' एक कोशिश है छात्र जीवन में प्रेम और फिर बनते बिगड़ते रिश्तों से गुज़र कर क़ैदखाने तक के सफ़र को शब्दों में ढ़ालने की | कहानी वैसे तो भूमिका में दिए विवरण से ही आरम्भ हो जाती है जब एक पत्रकार नील से मिलने उसके बैरक आता है लेकिन 17 अध्यायों में सिमटी इस उपन्यास की कहानी नील के कॉलेज और प्रेम के इर्द गिर्द घूमती हुई क़ैदख़ाने तक पहुँचती है |

कहानी का प्लॉट औसत दर्जे की है और लेखन शैली से फिल्मी अंदाज झलकता है | कहानी में आपको भावनाओं के साथ साथ चरित्र की मासूमियत भी पढ़ने को मिलेगी हालाँकि लेखक पाठक को कई जगहों पे यथार्थ से नहीं जोड़ पाते हैं | कुछ त्रुटियों कोअगर छोड़ दिया जाए तो छात्र जीवन मे प्रेम विषय पर एक अच्छी कोशिश है |

रेटिंग : 3 

Ghazal / غزل

غزل 

عشق  کے  بخت  میں  بھی   آخرت  ہے
ہجر  جہنم   تو   وصل    یار    جنّت      ہے


   ڈھل  کر جسم   بھی اب   کنگال   ہو   گیا  
روح  کے  بخت  میں  بھی   غربت    ہے


آپ میرے عشق  سے بھی ڈر  جاتے  ہیں
میں  تو   قہر  کو  بھی سمجھا   کہ رحمت  ہے


آپ  آیئے اب  تصویر   سے   نکل  کر  باہر
الزام   عشق   میرے  سر   پہ  بہت  ہے 


میں   نے  ہر   بار   تجھے   مایوس  ہی   رکھا
ارادہ   گناہگاری   میں  بھی   رحمت  ہے


آپ  کا  ہر  ایک جلوہ  غزل      پر  مجھ
 چشم  کے   عنوان  سے     محبّت      ہے



Ghazal

Ishq   ke   bakht   me   bhi   aakhrat   hai
Hijr   jahannum  to wasl e yar  jannat hai

Dhal kar  jism  bhi  ab  kangaal ho gaya
Rooh  ke   bakht   me     bhi   gurbat  hai

Aap   mere  ishq  se  bhi   dar  jaate  hain
Mai to qahar ko bhi samjha ki rahmat hai

Aap aayiye ab tasweer se nikal kar bahar
Ilzaam  e  ishq   mere   sar   pe  bahut  hai

Maine  har  baar  tujhe maayus  hi rakha
Iraada e gunaahgari   me  bhi  rahmat hai

Aap  ka  har ek  jalwa  ghazal   par mujhe

Chashm   ke   unwaan   se   muhabbat hai 


Bakht- kismat, gurbat- gareebi, 

मुशायरे में भारत माता की जय : ग़ालिब तेरे ही शहर में

“मुझे मालुम पड़ता है कि आपकी आमद यहाँ वक़्त से क़बल हो गयी है ?” “ग़ालिब* साहेब, आप और तुम की बंदिश में न रह कर बात की जाए तो बेहतर है क्यूंकि आप और तुम ज़ुबान से बोल देना सिर्फ़ इसकी अलामत नहीं है कि ग़ालिब मेरा अहतराम करता है या मैं ग़ालिब का एहतराम करता हूँ ठीक उसी तरह जैसे भारत माता की जय कहना क़तई सुबूत नहीं है कि कोई अपने मुल्क से मोहब्बत करता/करती है हालाँकि कुछ लोग इसी को हुब्बुल वतन (देशभक्त) होने का सनद मानते हैं और मैं इस से इनकार करता हूँ | रही बात तुम्हारे (लफ्ज़ में अहतराम व इज्ज़त न तलाशें) सवाल की तो मियाँ, कौन सा वक़्त और कैसी आमद, मैं तो बस तुम से मुलाक़ात करने इस तरफ़ बढ़ लिया, दुनिया में कहीं पे सो रहा हुंगा लेकिन रूह टहलती हुई इस तरफ़ आ निकली, सोचा तुम से वतन का कुछ हाल अहवाल बता दिया जाए हालाँकि तुम्हारे अहवाल से क्या लेना लोगों को, बस ग़ज़ल सुनते हैं तुम्हारी और वाह वाह कर के मस्ती से सो जाते हैं और वक़्त मिलता है तो उर्दू को दो चार गलियाँ भी दे देते हैं, दो चार क़त्ल भी कर देते हैं | खैर बात मुद्दे की करें तो जनाब मुल्क एक अजीब माहौल से गुज़र रहा है, हर तरफ़ चीख़ व पुकार, क़त्ल ओ ग़ारत है जैसे कोई औरत दौरान ए जचगी दर्द से कराह रही हो | जिनको कुछ लोग भारत माता कहते हैं और जिसे मैं अपना वतन कहता हूँ उनको हामला (गर्भवती) कर दिया है और एक नया मुल्क पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसी पैदाइश मुल्क के लिए ख़तरा है जैसा सत्तर साल पहले एक मुल्क पैदा हुआ था जिसकी रंजिश हम आज तक झेल रहे हैं | हर सिम्त साया है किसी के मौत का या किसी ऐसी ज़िन्दगी का जो एक खौफ़नाक रंज लिए पैदा होगा |”


“तुम क्या कर रहे हो फिर ?” “हक़ीक़त कहूँ तो कुछ नहीं और अगर हिम्मत अफज़ाई के लिए कहूँ तो बहुत कुछ क्योंकि ऐसे वक़्त में एह्तेजाज़ कर लेना भी कमाल है, कुछ बोल लेना, कुछ लिख लेना भी बड़ा काम है जो मैं कर रहा हूँ | मैं कहने ये आया था कि तुम्हारे जाने के बाद कुछ लोगों ने तुम्हारे कलाम को जिंदा किया और अवाम फिर जान पाई कि कोई ऐसा भी शायर था जिसका नाम सफ़्हे हस्ती पे देर से आया मगर ग़ालिब हुआ ग़ज़ल की दुनिया में | उन तमाम नुमाया कामों में एक ये भी है कि तुम्हारे नाम का एक अकैडमी है और एक इंस्टिट्यूट भी यानि ग़ालिब इंस्टिट्यूट | 12 अगस्त 2017 को मेरा जाना हुआ था वहां, एक मुशायरा जश्न ए आज़ादी के सिलसिले से जिसे अंजुमन ए उरूज ए उर्दू हर साल मनाती आ रही है | मौजूदगी राहत इन्दौरी, गुलज़ार देहलवी, अशोक साहिल, मंज़र भोपाली, इकबाल अशर साहेब वगैरह की थी | अब मुशायरा जश्न ए आज़ादी पे था तो ज़ाहिर सी बात है वतन के नाम कुछ ग़ज़ल, नज़्म और गीत होंगे ही लेकिन मुशायरे की तहज़ीब में भारत माता की जय पहली मरतबा सुना | हुआ यूँ कि मंज़र भोपाली साहेब एक गीत समाअत फरमा रहे थे, बाद अज़ गीत के ऐवान ए ग़ालिब के बीच से एक नारा बुलंद किया गया ‘भारत माता की जय’ जवाब में ऐसा नहीं था कि आवाज़ बुलंद न हुई, उसी जोश ओ ख़रोश से भारत माता की जय भी कहा गया लेकिन मुझे ताज्जुब हुआ कि ये किस तरह की तहज़ीब जिंदा करने की कोशिश की जा रही है कि एक तहज़ीब का जामा दूसरी तहज़ीब को पहनाया जा रहा है | मंज़र भोपाली साहेब के इस जवाब से दर्द झलकता है कि ‘लिजिये हम ने भी जय कह दिया अब तो सारे मसले ख़त्म हो जाने चाहिए’ | दरअसल ग़ालिब साहेब अब वो दिन दूर नहीं जब कुछ झूठे वतन के आशिक़ कुछ लोगों से जनाज़े की नमाज़ पे भी भारत माता की जय कहने को कहेंगे लेकिन जब इन से कहा जाए कि मादर ए वतन जिंदाबाद कहो तो वो उर्दू होने की वजह से इनकार कर देंगे | खैर चलता हूँ |                    


* सुखन ए ज़मीन, उस्दाद ए ग़ज़ल, शख्सियत ए तर्ज़ ए नौ मिर्ज़ा असदुल्लाह खान ग़ालिब , आप को तुम कहने का मक़सद सिर्फ़ ये बताना था लफ्ज़ ए भारत माता कि जय में देशभक्ति में नहीं है जिस तरह लफ़्ज़ों में एहतराम नहीं बल्कि इंसान क़ल्ब में होता है |  

ग़ज़ल / غزل

ग़ज़ल 

मैं  हिज्र  में कितना  इंसाफ़ कर  रहा हूँ
आजकल तेरी याद में एतकाफ़ कर रहा हूँ

भटक भटक  कर उसकी गलियों  में अब
मैं अपने  ख़ुदा का  तवाफ़  कर रहा  हूँ

इश्क़  में  ज़रूरी  है  तबाही  दिल  की
मैं दिल को जला कर सफ़्फ़ाफ़ कर रहा हूँ

जैसा  भी  हूँ  जो  भी  हूँ तेरा  बन्दा हूँ
मैं अपने  गुनाहों  का एतराफ़ कर रहा हूँ

मैं इज़हार ए इश्क़ का ताब कहाँ से लाऊं
अपने  फ़ैसले  पे लाम काफ़  कर रहा हूँ


غزل


میں  ہجر  میں  کتنا  انصاف  کر  رہا  ہوں
آج  کل  تیری  یاد میں اعتکاف  کر رہا  ہوں

بھٹک  بھٹک کر  اسکی   گلیوں  میں  اب
میں   اپنے  خدا  کا   طواف  کر  رہا  ہوں 

 عشق   میں ضروری  ہے  تباہی   دل  کی
میں  دل  کو  جلا  کر  سفّاف  کر رہا  ہوں

جیسا بھی ہوں  جو بھی ہوں  تیرا بندہ ہوں
میں  اپنے  گناہوں کا  اعتراف کر  رہا  ہوں

میں اظہار عشق  کا  تعب کہاں  سے لاؤں
اپنے   فیصلے  پہ  لام کاف   کر رہا  ہوں




Painting is Still Version of Theories and Literature

Recently I received an opportunity to witness paintings of Almas, a fine art studen...