खेत की पुकार

खेत की पुकार 

काले काले जले भुने से 
कफ़न में लिपटी थी उसकी लाश 
खोला हटा कर देखा कफ़न को 
तो साँस लेती थी उसकी लाश 
क़रीब बैठा, पूछा 
अभी तो पिछले फ़सल में तुम 
जागते थे पीले फूलों के साथ 
गन्दुम की लहलहाती 
झुरमुट सी बालियों के साथ 
और आज किसने दफ़ना दिया 
तुम्हारे हँसते गाते तन को 
जलते धुँआ में साँस लेता खेत 
सूखे आँसुओं का क़तरा बहा कर कहने लगा
वो नादान दहकाँ  
ज़रख़ेज़ी का नुस्ख़ा समझ कर 
जला दिया मेरे जिस्म के बालों को 

गन्दुम - गेंहू , दहकाँ - किसान , ज़रख़ेज़ी - उर्वरकता

KHET KI PUKAR

Kale kale jale bhune se
Kafan main lipti thi uski lash
Khola hata kar dekha kafan ko
to sans leti thi uski lash
Qareeb baitha puchha
Abhi to pichhle fasal main tum
Jagte the peele phoolon ke sath
Gandum ki lahlahati 
jhurmut si baliyon ke sath
Aur aaj kisne dafana diya 
Tumhare hanste gate tan ko
Jalte dhuwan main sans leta khet 
Sukhe aansuon ka qatara baha kar kahne laga
Wo nadan dahkan 
zarkhezi ka nuskha samajh kar 
Jala diya mere jism ke balo ko

Meaning 
Gandum - Wheat, Dahkan - farmer , Zarkhezi - fertilizer

No comments:

Post a Comment

Polythenized Death of Nature

The word ‘nature’ and its meaning can give us better understanding of some sociological concepts like freedom, empowerment, unbiased, nonj...